NCP Under Pressure to Sack Agatha Sangma

Wednesday, June 27th, 2012 | by

Members of Nationalist Congress Party have stepped up pressure on party supremo Shard Pawar in sacking Union minister Agatha Sangma. It has been alleged that Agatha, a party MP from Tura Lok Sabha constituency, Meghalaya and Union Minister of State for Rural Development  is campaigning extensively for her father, PA Sangma, who is a Presidential Candidate. This is supposedly a deviation from party directives.

“She is violating the coalition dharma…it is unethical. Her action will encourage indiscipline in the party. She should immediately be sacked from party and government,” stated NCP leader Rajeev Jha, taking note of her meeting with tribal leaders in Chhattisgarh’s Bastar district, where she is said to have declared it a welcome gesture if tribal MPs and MLAs cast their votes in favour of her father.

“Leaders from BJP, AIADMK and BJD have supported Mr Sangma not only because he is a tribal and represents minority community but because they see him to be somebody who has delivered and has been a very prominent Speaker, an effective union minister and chief minister and somebody they respect,” said Agatha, justifying her father’s receipt of support from BJP, AIADMK and BJD even though he was a candidate of Tribal Forum of India.

Short URL: http://indiawires.com/?p=11807

3 Responses to NCP Under Pressure to Sack Agatha Sangma

  1. Bhageerathankodia

    Congratulaion

  2. Bhageerathankodia

    Congratulation on dashing  decision of your beloved Father on eve of contesting the election foe the Honorable post of the President of  India, It will prove  beneficial to the General Mass as it is the fight against the Corruption in the Country .so we wish him for success please.
    Pl. let me know the valid comments 

  3. Bhgeerathankodia

    “राष्ट्रपति -चयन ”
    अगर श्रीमान प्रणाम मुखर्जी को राष्ट्र का राष्ट्रपति प्रत्याक्षी घोषित किया जाता है, तो देश की यह सबसे बड़ी विडम्ना होगी ! क्योंकि मुखर्जी साहब भ्रष्टाचार के रूप में एक एजेंसी साबित हो चुके हैं ( Agency to the corruption )
    भारत सरकार द्वारा जारी किया गया श्वेत पत्र भ्रष्टाचार का एक एक खुला चिट्ठा है ! 
    जिस व्यक्ति को संकट मोचक पद से आज तक सरकार द्वारा नवाजा जारहा है ,उस व्यक्ति ने आजतक देश का कोनसा संकट दूर किया ! घोटाले ,महंगाई ,भ्रष्टाचार आदि आदि ! आतंकवाद इनका कार्य क्षेत्र नही है लेकिन कंग्रेस इन्हे अति बुद्धिमान समझती है अत : परोक्ष रूप से फिर भी दोषी हैं ! वित् विभाग तो दादा का ही है ,तो फिर रेजगारी बाजार से कैसे गायब हो रही है ? छोटी कागजी मुद्रा ,एक ,दो ,के नोट कैसे गायब हो गये? और पांच का नोट भी शीघ्र दस के नोट का स्थान लेता जा रहा ! इस की कमी तो मुखर्जी दूर ही कर सकते हैं ! आम आदमी ,आम मजदूर ,किसान एवं जिन लोगों को सुदूर जगहों पर काम पर जाना पड़ता उनके दिलों से पूछो की कितनी उसे तकलीफ होती है और कितनी राशि उनकी जेब से निकल जाती है ,यह व्यवस्था खाज में खुजली का काम करती है अर्थार्त महंगाई को और बढाती है ! पिछले समय जब कांग्रेस ने अपना कार्य भार सम्भाला था तब माननीय मुखर्जी हंस- हंस कर बड-चड कर बोलते थे की राष्ट्र की विकास दर ९% है ,यह गिरती गई ,फिर बोला ८% है ,यह फिर गिर गयी फिर साँसे थाम कर बोले की नही नही अब ७% रहेगी वह भी गिर गई और अब गिर कर ६.९ से भी निचे आकर ६.५% रह गई ,इन सब का गुनाहगार सिर्फ और सिर्फ प्रणाम मुखर्जी है ! यह राष्र के सिद्ध दोषी होने के नाते एक आरोपी भी ! क्या इन्हे देश का राष्ट्रपति बनना चाहिए ? समस्त देशवासी एवं समस्त सांसद महोदय मनन करें !

Leave a Reply

Poll

    • Seeing Voting Percentage across the Nation, do You Think BJP would be well ahead its Mission272+ ?

      View Results

      Loading ... Loading ...
  • Popular Posts


    © 2012 IndiaWires. All Rights Reserved. Log in

    Designed & Maintained By Pyrumas

    Subscribe Newsletter